उसने अपनी जान क्यों दी ? ऐसी कहानी जो आप की सोच बदल दे | Motivational Kahani in Hindi 

 Motivational Kahani in Hindi For Students, achhi kahani
 Motivational Kahani in Hindi For Students

मैंने कॉलेज के पीछे के दिवार पर लिखे नंबर पर कॉल लगाया
" आप सुमन जी बोल रही है "
जी नहीं, में उसका पापा बोल रहा हु  लेकिन आप कौन ? और आप को ये नंबर कहाँ से मिला ?
दरअसल वो कॉलेज ..., दरअसल वो कॉलेज की दीवार पे किसी ने आप के बेटी का नाम और नंबर लिख रखा है शायद आप की बेटी का कोई अच्छा दुश्मन या फिर कोई बुरा दोस्त होगा जो भी हो आप से ये कहना था की हो सके तो अपनी बेटी का नंबर बदल दीजिये या फिर किसी अच्छे जवाब के साथ तैयार रहे क्युकी आप की बेटी के नंबर बहुत लोगो के पास पहुंच गया है। 
और में आप की बेटी का नंबर दीवार से मिटा रहा हु... 
इतनी बात सुनकर उसके पिता रोने लगा और कहाँ 
बेटा सुमन अब नहीं रही उसने इसी कारण से सुसाइट कर लिया अब नंबर  हटाने का कोई फायदा नहीं 

आप सभी को जानकार हैरानी होगी सुनन जी अनजाने नंबर और उन से सुन रही भद्दे बातो की वजह से बहुत ज्यादा परेशान रही होगी, 
तभी से मेरी जिंदगी को एक और दिशा मिली और में सार्वजनिक स्थानों पर लिखे  ऐसे नुम्बरो को मिटाने में लग गया, ताकि किसी न किसी को तो बचाया जा सके, 

माना की तुम किसी बुराई की वजह नहीं होंगे, पर किसी अच्छाई की वजह तो बन सकते हो 

अतः आप सभी से निवेदन है कि आप भी कही इस तरह का कुछ देखे तो तुरंत नंबर और नाम मिटा कर एक अनजान खतरे से बहन - बेटियों की मदद करे 

आप यह  Achhi  Kahani पर पढ़ रहे है , आप सभी के लिए ये कहानी नहीं बल्कि एक सिख है आशा करता हु आप को ये बहुत पसंद आई होगी अगर आप ने भी ऐसे ही सार्वजनिक स्थानों पर नंबर को मिटाया है तो आप हमें कमेंट कर बातये, 
धन्यवाद 

close